Truecaller के AI असिस्टेंट में पैसे लगाने से पहले आपके

Truecaller
newsviews100.com
newsviews100.com

यूजर की जगह पर उनका फोन रिसीव कर सकेगा Truecaller AI असिस्टेंट.

कॉलर से बातचीत को टेक्स्ट में कन्वर्ट करके दिखाएगा ट्रूकॉलर का असिस्टेंट. AI असिस्टेंट का इस्तेमाल करने के लिए ट्रूकॉलर का प्रीमियम प्‍लान लेना होगा.

मोबाइल फोन्स ने अपनों से जुड़े रहने को बेहद आसान बना दिया है, पर इसके साथ ही ऑनलाइन ठगों के लिए ‘बिजनेस अपॉर्चुनिटी’ भी बढ़ गई है. आप कितने भी DND लगा लें, स्कैमर्स आप तक पहुंचने के नए-नए तरीके निकाल ही लेते हैं. अब इन पर लगाम लगाने के लिए ट्रूकॉलर ने एक AI असिस्टेंट लॉन्च किया है. ये असिस्टेंट ट्रूकॉलर के स्पैम आइडेंटिफिकेशन को और ज्यादा मजबूती देगा. इससे यूजर्स को स्पैम कॉल्स से बचने में बड़ी मदद मिलेगी.

AI असिस्टेंट

आपके कॉल्स रिसीव कर सकेगा, वो आपके लिए ये पता कर सकेगा कि कॉल किसने किया है और किसलिए किया है. आप केवल जरूरी कॉल्स रिसीव करने का ऑप्शन चुन सकते हैं. अब तक ट्रूकॉलर यूजर्स को केवल ये बता पाता था कि कौन कॉल कर रहा है.

  • कैसे काम करेगा ट्रूकॉलर का AI असिस्टेंट
  • ट्रूकॉलर का AI असिस्टेंट कॉल्स को स्क्रीन करना आसान कर देता है. वो आपकी तरफ से इनकमिंग कॉल का जवाब देता और पहचान करता है कि कॉलर स्पैम तो नहीं है. कॉल आने पर यूजर के पास कॉल रिसीव करने, रिजेक्ट करने या फिर असिस्टेंट के पास भेजने का ऑप्शन होगा.
  • असिस्टेंट आपकी तरफ से कॉल रिसीव करेगा, अगर कॉलर असिस्टेंट से बात करेगा तो उसकी आइडेंटिटी यूजर को पता चल जाएगी. इसके साथ ही असिस्टेंट स्पीच टू टेक्स्ट टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करके रियल टाइम में यूजर को बता देगा कि सामने वाला क्या कह रहा है. यूजर और ज्यादा जानकारी भी मांग सकते हैं और इसके बाद यूजर फोन रिसीव करने या नहीं करने का ऑप्शन चुन सकेंगे.

कैसे ले सकते हैं AI असिस्टेंट

ट्रूकॉलर असिस्टेंट फीचर फिलहाल ऐप के एंड्रॉइड यूजर्स के लिए अवेलेबल है. हालांकि, इसका इस्तेमाल करने के लिए आपको ट्रूकॉलर का प्रीमियम प्‍लान खरीदना होगा. अभी प्रीमियम प्‍लान पर AI असिस्टेंट का 14 दिन का फ्री ट्रायल मिल रहा है. इसके बाद आप 149 रुपये महीने का प्लान ले सकते हैं. फिलहाल प्रमोशनल ऑफर के तहत आप 99 रुपये में ये प्लान ले सकते हैं.

वैसे तो

महीने के 99 रुपये खर्च करके AI असिस्टेंट रखने के ऑप्शन को अफोर्डेबल माना जा सकता है. लेकिन इसमें यूजर का काम कम होने की जगह बढ़ता ही नज़र आता है.आप पहले कॉल रिसीव, रिजेक्ट या फॉरवर्ड करेंगे. अगर फॉरवर्ड किया तो फिर देखेंगे कि असिस्टेंट से कॉलर की क्या बात हुई और उसके बाद रिसीव, रिजेक्ट या स्पैम रिपोर्ट कर लेंगे. वहां भी आपको अपने विवेक से ही काम लेना है तो पैसे देने की जगह खुद फोन उठाकर आप ये कर सकते हैं. उसके लिए महीने के 99 यानी साल के लगभग 1188 रुपये (एनुअल प्लान में थोड़ा सस्ता पड़ सकता है) खर्च करना कितना सही है, इसका फैसला भी अपने विवेक से करें.

ट्रूकॉलर असिस्टेंट

अभी भारत में केवल हिंदी, इंग्लिश और हिंग्लिश भाषाओं को सपोर्ट कर रहा है. आने वाले समय में दूसरी भारतीय भाषाओं को भी इसमें शामिल किया जाएगा.